Search Your Content

Hiiii Like This Plzzz !!!

Hiiii Like This Plzzz !!!

Ads By Flipkart

Wednesday, 19 April 2017

0 Tum Ko Dekha Toh Ye Khayal - Jagjit Singh Ghazals - Saath Saath movie !!!!

Tumako dekhaa to ye khayaal ayaa
Jindagi dhup, tum ghanaa saayaa

Aj fir dil ne ek tamannaa ki
Aj fir dil ko ham ne samajhaayaa

Tum chale jaaoge to sochenge
Hamane kyaa khoyaa hamane kyaa paayaa

Ham jise gunagunaa nahin sakate
Wakt ne aisaa git kyon gaayaa




here is the link to the video -Click Here !!

0 In aankhon ki masti ke Song Lyrics with Video -Movie Umrao jaan 1980 !!!

In aankhon ki masti ke, aah aah aah aah
In aankhon ki masti ke mastaane hazaaron hain
Mastaane hazaaron hain
In aankhon se vaabasta
In aankhon se vaabasta afsaane hazaaron hain
Afsaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke
Ek tum hi nahin tanha, aah aah
Ek tum hi nahin tanha ulfat mein meri rusva
Ulfat mein meri rusva
Is shaher mein tum jaise
Is shaher mein tum jaise deewaane hazaaron hain
Deewaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke mastaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke, aah aah aah
Ek sirf humi mai ko, ek sirf humi
Ek sirf humi mai ko aankhon se pilaate hain
Aankhon se pilaate hain
Kehne ko to duniya mein
Kehne ko to duniya mein maikhaane hazaaron hain
Maikhaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke mastaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke
Is shamm-e-faroza ko, aah aah
Is shamm-e-faroza ko aandhi se darraate ho
Aandhi se darraate ho
Is shamm-e-faroza ke
Is shamm-e-faroza ke parvaane hazaaron hain
Parvaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke mastaane hazaaron hain
In aankhon se vaabasta afsaane hazaaron hain
Afsaane hazaaron hain
In aankhon ki masti ke





Here is the Link to Youtube Video !!!


0 माना की तेरी नजर के काबिल ना थे हम !!!

माना की तेरी नजर के काबिल ना थे हम 



लेकिन जरा उनसे भी पुछकर देख जिनको हासिल ना थे हम....




0 नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए !!!

नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए



पंखुड़ी इक गुलाब की सी है l






0 ना जाने किस रैन बसेरे की तलाश है इस चाँद को !!!

ना जाने किस रैन बसेरे की तलाश है इस चाँद को;


रात भर बिना कम्बल, भटकता रहता है इन सर्द रातों में !




0 प्रिये तुम्हारी सुधि को मैंने यूँ भी अक्सर चूम लिया !!!!

प्रिये तुम्हारी सुधि को मैंने यूँ भी अक्सर चूम लिया

तुम पर गीत लिखा फिर उसका अक्षर-अक्षर चूम लिया

मैं क्या जानूँ मंदिर-मस्जिद, गिरिजा या गुरुद्वारा

जिन पर पहली बार दिखा था अल्हड़ रूप तुम्हारा

मैंने उन पावन राहों का पत्थर-पत्थर चूम लिया

तुम पर गीत लिखा फिर उसका अक्षर-अक्षर चूम लिया

हम-तुम उतनी दूर- धरा से नभ की जितनी दूरी

फिर भी हमने साध मिलन की पल में कर ली पूरी

मैंने धरती को दुलराया, तुमने अम्बर चूम लिया

तुम पर गीत लिखा फिर उसका अक्षर-अक्षर चूम लिया
- देवल आशीष



0 रह लेंगे हम तनहा अकेला !!!

रह लेंगे हम तनहा अकेला
तू भी तो रहती ही होगी...
अब न करेंगे इश्के सौदा
रह लेंगे हम तनहा अकेला...
तेरी तस्वीर को
पूरा मिटाया...
पूरी परछाई खुद पे छाई...
तू ऐसी निकलेगी
मुझको
पता नही था
कैसे इसको
जा तू जा अब बापस न आना
और किसी का दिल न दुखाना
रह लेंगे हम तनहा अकेला
तू भी तो रहती होगी..
यादो का है बड़ा
बखेड़ा
अब कभी न लौट के आना
तेरी झुल्फे तेरी साए
रह लेंगे हम तनहा अकेला...
बातो का है
बड़ा झमेला
वो हँसी वो वो सुहानी बाते
कभी न फिर यु
दुहराना...
जा तू जा बड़ी दूर चली जा
रह लेंगे हम तनहा अकेला
जबसे तुझसे दूर हुआ हु
अपनी कलमो से मशहूर हुआ हु...
अब न आना
न बतलाना
अब न कोई बहाना बनाना..
जा तू जा तू दूर चली जा
रह लेंगे हम तनहा अकेला..




0 हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर !!!

हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर,



कई ज़ख्मों को सीने में दबाकर रख दिया हमने !



Ads By Amazon

Give Your Valuable Comments here !!!

Sponcored links

Ads by Flipkart

Flipkart E-vouchers

Flipkarts Best Sellers

Hiiii Like This haa !!!!!

Hiiii Like This haa !!!!!

Ads By Amazon-Featured